34. दत्त महाशय

छोकरे की अभी ठीक से मूँछें भी नहीं उगीं, और अभी से यह काण्ड! मूँछें उगने पर पता नहीं-
इतना कह कर दत्त महाशय ने अपनी मूँछों पर दृष्टिपात किया और एक पका बाल तोड़ कर सामने बैठे विश्वास से बोले-
और कितने हैं देखना भई! एह, इस तरह पकने से तो दो दिनों में ही सब साफ हो जायेगा देख रहा हूँ।
कहाँ, और तो नहीं है! जो तोड़े, उसे दिखाना।
टूटा हुआ रोम दत्त महाशय के अंगुष्ठ एवं तर्जनी के बीच ही था।
विश्वास को उन्होंने वह दिया।
विश्वास ने हिला-डुला कर काफी देर तक उसका निरीक्षण किया और अन्त में वे बोले, ”आप कच्ची मूँछों को यूँ पटा-पट क्यों तोड़े जा रहे हैं बताईये तो जरा? यह क्या पका हुआ है? यह तो तमाखू का धुआँ लगने से ऐसा हो गया है।
दत्त महाशय इस बीच एक और बाल तोड़ चुके थे।
बोले, ”अच्छा, इसे देखो तो।
यह तो एकदम कच्चा है- तमाखू का रंग तक नहीं लगा है। और मत तोड़िये।
दत्त दक्षिण चक्षु को बन्द कर वक्रायित वाम चक्षु की दृष्टि को मूँछ की छोर पर निबद्ध किये हुए थे और ओष्ठ को नाना प्रकार से कुञ्चित-प्रसारित कर फिर नये शिकार की चेष्टा में थे। विश्वास की बातों का उन्होंने कोई प्रतिकार तो नहीं किया, मगर शीघ्र ही मुखभंगिमा के साथ उन्होंने एक तृतीय रोम का उत्पाटन किया और उसे भी विश्वास के हाथों अर्पित कर प्रथम प्रसंग को फिर छेड़ा-
यानि छोकरा मुकदमे के चक्कर में पड़ गया है। कुल्हाड़ी पर पैर मारने से अपना ही पैर कटेगा! तुमने यह खबर सुनी कहाँ? उस रोज शाम को मैं स्टेशन की ओर गया था टहलते-टहलते, तभी छोकरे का हाव-भाव देखकर कैसा एक सन्देह हुआ-
इतना कह कर दत्त महाशय रुक गये।
विश्वास ने तीसरे बाल के सम्बन्ध में कोई मन्तव्य नहीं किया। देह खुजाने लगे।
जैसे दत्त महाशय का मुद्रादोष मूँछों के बाल तोड़ना था, वैसे ही विश्वास महाशय का मुद्रादोष था शरीर खुजाना। सिर्फ खुजाकर ही वे शान्त नहीं होते थे। सर्वांग में अँगुलियों का संचालन कर पता नहीं क्या आहरण कर के लाते थे, उस आहरित वस्तु का आघ्राण करते थे और अगले ही पल नासिका कुञ्चित कर उसे फेंक देते थे। वही वे कर रहे थे।
दत्त नासिका के ठीक निम्नवर्ती मूच्छगुच्छ के पर्यवेक्षण की व्यर्थ चेष्टा करते-करते बोले, ”आपने क्या सुना है?“
खुजली से निवृत्त होकर विश्वास ने उत्तर दिया, ”सुनने में आया कि बनर्जी वकील सड़क पर किसी से कह रहे थे- एक लड़की को लेकर छोटे बाबू हमारे केस में शामिल हैं। ठीक से पूछा नहीं है मैंने- रास्ते में आते-आते सुना। स्टेशन पर उस दिन क्या देखा आपने?“
 दत्त उष्णकण्ठ से अचानक बोल पड़े, ”देखना क्या है! अपना सिर! देखा, प्लेटफार्म पर बैठी हुई थी जरीदार दुपट्टा ओढ़े बाईजी किस्म की एक सुन्दर युवती। उसके पास थे दुबले-पतले एक बुजुर्ग। पकी हुई दाढ़ी मेंहन्दी से रँगी हुई- शरीर पर अधमैला कुरता-पायजामा। उमर खैयाम वाली किताब में जिस तरह की तस्वीर रहती है न आजकल, ठीक वैसे ही। स्टेशन के छोटे बाबू को देखा, बार-बार उनकी ओर देखे जा रहे थे। स्टेशन बिलकुल सुनसान था। -इतना कह कर दत्त महाशय फिर रुक गये और मन-ही-मन सोचने लगे- इस विश्वास को इतना सब नहीं बोलने से ही होता। क्या जरुरत थी!
विश्वास फिर शरीर खुजाकर लायी गयी वस्तु को सूँघ कर अभी कुञ्चित-नासिका अवस्था में थे। दत्त की बात समाप्त होते-न होते बोल पड़े, ”वही-वही- दुपट्टे वाली उस लड़की और लाल दाढ़ी वाले उस बुजुर्ग को हमारे बनर्जी वकील अपनी आँखों से आज अदालत में देख कर आये। हमारे छोटे बाबू भी थे। आप कुछ भी कहिये, बात ठीक ही है। बर्बाद हो गये हैं आजकल के लड़के। ...अच्छा, आप अनर्थक बैठ कर मूँछों के काले बालों को यूँ तोड़े क्यों जा रहे हैं, बताईये तो जरा?“
विश्वास महाशय पिछले एक साल से दत्त की पकी मूँछों को कच्ची साबित करने की चेष्टा में हैं। दत्त इसका प्रतिवाद नहीं करते। विश्वास की इन अत्युक्तियों का उपभोग करते-करते वे पके बालों को तोड़ते रहते थे। विश्वास की बातों से बहल कर पके बालों के सम्बन्ध में वे उदासीन हो जायें, ऐसे भोले बालक दत्त महाशय नहीं थे।
लड़की वाले पकी मूँछों को कच्ची समझने की भूल नहीं करेंगे।
यह गलती विश्वास भी नहीं करते, यदि उन्हें जब-तब रुपये उधार लेने की जरुरत नहीं पड़ते रहती।
दत्त सब समझते हैं, कुछ बोलते नहीं हैं।
दत्त महाशय की दूसरी पत्नी का देहान्त हो गया है।
तीसरी पत्नी की खोज में हैं वे।
दो प्रमुख बाधायें हैं।
पकी मूँछें और विवाहयोग्य अनूढ़ा पुत्री।
पुत्री का विवाह किये बिना उनके लिए विवाह करना असम्भव था।
एकबार पुत्री का विवाह हो जाय, तो दत्त महाशय स्वछन्द होकर इस शुभ कार्य की ओर अग्रसर हो सकते थे। लेकिन मन के लायक लड़का मिल ही नहीं रहा था।
शरीर खुजाते हुए विश्वास बोले, ”इसका मतलब छोकरा रंगा सियार है।
दत्त उठ कर टेबल के ड्रॉअर से छोटा आईना निकाल कर अपनी गुम्फराशि का परिदर्शन करने लगे। कुछ बोले नहीं।
कुछ क्षण नीरवता में बीते।
नीरवता भंग कर विश्वास फिर तिक्त स्वर में बोल उठे, ”जेल हो जानी चाहिए; नौकरी चली जानी चाहिए- ऐसे लोगों की। पाजी, चरित्रहीन, आवारा ये छोकरे-
विश्वास की इस ऊष्मा के पीछे कारण था। उनकी धारणा थी, स्टेशन में नवागत छोटे बाबू की निन्दा कर वे दत्त महाशय का मनोरंजन कर रहे थे। दत्त महाशय के सामने आजकल के लड़कों को बुरा-भला कह कर विश्वास महाशय हमेशा फायदे में ही रहते थे। आज उन्हें कुछ रुपयों की जरुरत थी। अतः पकी मूँछों को कच्ची बता कर तथा आजकल के लड़के-छोकरों को बुरा-भला कह कर- अर्थात् दोनाली बन्दूक से- विश्वास महाशय लक्ष्यभेद करने की कोशिश कर रहे थे। पहले बहुत बार उन्होंने इस रास्ते से सफलता प्राप्त की थी।
लेकिन दत्त की तरफ से कोई सुगबुगाहट नहीं थी।
शरीर खुजाना बन्द करके विश्वास ने एकबार फिर तिरछी नजरों से दत्त की तरफ देखा।
दत्त ऊपर के होंठ को नीचे के होंठ से दबाकर दर्पण पर दृष्टि निबद्ध कर उसी में निमग्न रहे।
विश्वास को ठीक-ठीक समझ में नहीं आया कि दत्त महाशय के मन की प्रसन्नता उस स्तर तक पहुँची है या नहीं, जिस स्तर पर पहुँचने से उधार की बात की जा सके।
अतः शरीर खुजाते हुए उन्होंने एक और गोली दागा-
आजकल के छोकरे, विशेषकर वे खद्दर धारण करने वाले-
अचानक दत्त ने आईने को टेबल पर रख कर अपनी दृष्टि को विश्वास की तरफ घुमाया।
विश्वास की अन्तरात्मा धक् कर उठी।
दोनों आँखों से अँगारे बरस रहे थे।
यह क्या हुआ!
आँखों में जो भी हो, चेहरे पर दत्त की लेकिन मुस्कुराहट तैर गयी।
वे बोले, ”रुपये की जरुरत है क्या? आज मेरे हाथ में रुपये नहीं हैं विश्वास।
विश्वास मन मार कर रह गये।
लेकिन प्रकट रुप से वे बोले, ”नहीं, रुपये की जरुरत नहीं है।
कुछ देर पहलू बदलने के बाद वे उठ खड़े हुए- अब बैठना वृथा है।
रास्ता चलते हुए विश्वास सोचने लगे, दत्त आज नाराज क्यों हुए?

--दो--
कुछ देर बाद ही दत्त के बैठकखाने में बनर्जी वकील का आविर्भाव हुआ। उनके आगमन का कारण भी रुपया ही था। दत्त के वे भी रुपया उधार लेने आये थे। अचानक जरुरत पड़ गयी थी।
वकील होने पर भी बनर्जी स्पष्टवक्ता थे- सीधे-सादे व्यक्ति।
दर्पण-हस्त गुम्फ-चयन-निरत दत्त से वे बोले, ”अरे इन्हें तोड़ कर क्या इनसे पार पा सकेंगे? इससे तो अच्छा है कि इन्हें सफाचट कर डालिये।
दत्त ने कोई प्रतिवाद नहीं किया।
प्रतिवाद करना उनके स्वभाव के विरुद्ध था। जो भी जो कुछ भी बोलता है, उसे सुनते थे, जो स्मरण योग्य लगता था, उसे मन में रखते थे, बाकी को दूसरे कान से निकाल देते थे। सीधा हिसाब। तर्क करके क्या लाभ?
बनर्जी ने काम की बात कही-
पाँच सौ रुपये उधार मिल जायेंगे? हैण्डनोट लिख दूँगा, सूद भी दूँगा-
दत्त महाशय सूदखोर हैं, इस कारण ही धनी हैं।
अतः निस्संकोच मृदु हँसी हँसकर बोले, ”कितना सूद दीजियेगा?“
जितना माँगिये। महीने भर के अन्दर चुका दूँगा।
दत्त महाशय ने आईने को टेबल पर रख कर भ्रुकुञ्चित कर प्रश्न किया, ”अच्छा, एक लड़की को लेकर स्टेशन के नये छोटे बाबू के खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज हुआ है क्या? पता है आपको?“
हाँ, पता है मतलब- मैं ही तो वकील था रेल की तरफ से। मामला कुछ नहीं है, एक बाईजी और उसके साथ उसका सारंगीवाला, दोनों बेटिकट जा रहे थे- छोटे बाबू ने उन्हें पकड़ कर उनका चालान कर दिया। लड़का काफी ऑनेस्ट है। और कोई होने पर दो-चार पैसे लेकर छोड़ देता।
दत्त फिर आईना लेकर मूँछ देखने लगे।
बनर्जी बोले, ”रुपये दे रहे हैं?“
अभी चाहिए?“
मिल जाने से ठीक ही रहता-
दत्त ने तत्क्षणात् कमर से चाभियों का गुच्छा निकाल कर दीवार में चिने लोहे का सन्दूक खोल कर पाँच सौ का नोट निकाला और मृदु हँसी हँस कर बोले, ”हैण्डनोट-फैण्डनोट देना है तो दे दीजिये- सूद आपको नहीं देना होगा। इस थोड़े-से रुपये के लिए बामन से फिर सूद लूँगा- वह भी महीने भर के लिए?“
बहुत-बहुत धन्यवाद।
बनर्जी चले गये।
वे भी रास्ता चलते हुए सोचने लगे, दत्त आज अचानक इतने दरियादिल कैसे हो गये?

--तीन--
आधुनिक लड़कों की निन्दा करने से दत्त खुश होते थे, लेकिन विश्वास आज दत्त को खुश नहीं कर पाये। बनर्जी की स्पष्टवादिता के कारण वे बनर्जी से नाराज रहते थे, मगर आज उन्हीं पर प्रसन्न होकर उन्होंने बिना सूद, बिना हैण्डनोट के ही उन्हें रुपये दे दिये।
इसके पीछे कारण था।
मूल कारण- वही तीसरा विवाह।
स्टेशन के छोटे बाबू दत्त महाशय को अच्छे लगे थे। स्वजातीय हैं और उनका परिवार अदला-बदली विवाह के लिए राजी है, जानकर उन्होंने छोटे बाबू के पिता का पता ले लिया था। पत्र-व्यवहार के माध्यम से ही अपनी पुत्री के साथ छोटे बाबू का रिश्ता उन्होंने प्रायः तय कर लिया था। कुण्डली-मिलान हो गया था, लेन-देन भी प्रायः तय हो गया था। दत्त महाशय स्वभाव से अन्तर्मुखी थे, इसलिए गोपनीय तरीके से ही सब कर रहे थे। हठात् उस दिन स्टेशन की तरफ घूमने जाने के क्रम में उस बाईजी किस्म की औरत को देख कर दत्त महाशय के मन में भारी खटका लग गया था। लड़के का स्वभाव-चरित्र ठीक-ठाक है तो? आजकल के लड़के हैं, कुछ कहा भी नहीं जा सकता। देख कर तो लड़का भला ही लगता है।
चलो अब निश्चिन्त हुआ जा सकता है।
लड़के यानि छोटे बाबू के पिता को उन्होंने पत्र लिखा कि वे अविलम्ब आकर कन्या को देखकर आशीर्वाद कर जायें। ओह, विश्वास ने तो सिर ही घुमा दिया था!
पत्र लिखने के बाद दत्त महाशय ने फिर दर्पण हाथ में उठा लिया और भौंहों को सिकोड़ कर मूँछों को देखने लगे। कुछ देर देखने के बाद दर्पण रख कर पंजिका (पुस्तकाकार बँगला पञ्चाङ्ग) खोलकर उसके पन्ने पलटने लगे। एक पन्ने पर आकर उनकी दृष्टि स्थिर हुई और उस पन्ने से पता लेकर एक और पत्र उन्होंने लिख डाला। पत्र समाप्त कर बुदबुदाते हुए अपने आप से ही वे बोल पड़े, ”पैसे की चिन्ता करने से नहीं चलेगा, चौपट हो जायेगा सब-
दूसरा पत्र लिखा उन्होंने बाल काला करने वाला कलप मँगवाने के लिए।
--:0:--

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

36. हॉकर

  कलह का मूल कारण हालाँकि कात्यायनी ही थीं। कात्यायनी के वाक्यस्फुलिंग जब भैरव के चित्त-बारूद पर गिरकर उसे विस्फोटक बना रहे थे , उसी समय...